Megha and Rohit with Dr. Shamim Sharma

Students got second & fourth positions in the university exams

जेसीडी फार्मेसी कॉलेज की छात्रा मेघा ने पाया विश्वविद्यालय में दूसरा स्थान
एक पढ़ी-लिखी बेटी कर सकती है दो परिवारों को शिक्षित : डॉ.शमीम शर्मा

सिरसा 22 सितंबर 2021 : जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित फार्मेसी कॉलेज के छात्रा मेघा सुपुत्री श्री राकेश सिंधी व छात्र मोहित सैनी सुपुत्र सत्य प्रकाश ने पं. भगवत दयाल शर्मा हेल्थ साईसिंज यूनिवर्सिटी द्वारा एम.फार्मा के प्रथम सेमेस्टर घोषित परिणामों में पूरे विश्वविद्यालय में द्वितीय एवं चौथा स्थान हासिल करके संस्थान सहित अपने माता-पिता व परिवार का नाम रोशन करने का काम किया है।

इस मौके पर दोनों विद्यार्थियों को बधाई प्रेषित करते हुए कॉलेज प्राचार्या डॉ. अनुपमा सेतिया ने कहा कि हमारा सदैव यही ध्येय रहता है कि हम विद्यार्थियों को संस्कारित, गुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ-साथ अनुशासित नागरिक भी बनाएं। उन्होंने कहा कि परीक्षा में विद्यार्थी मेघा व मोहित द्वारा किए गया बेहतर प्रदर्शन अन्य विद्यार्थियों के लिए भी उत्साहवद्र्धन का कार्य करेगा और अन्य बच्चों को भी मेहनत एवं लग्न से शिक्षा हासिल करने के लिए प्रेरित करेगा। डॉ. सेतिया ने बताया कि छात्रा मेघा ने 80.9 प्रतिशत अंकों के साथ यूनिवर्सिटी में द्वितीय तथा सिरसा जिले में प्रथम स्थान का प्राप्त किया है वही छात्र मोहित ने 78.9 प्रतिशत अंकों के साथ यूनिवर्सिटी में चौथा एवं सिरसा जिले में दूसरा स्थान प्राप्त किया है।

इस मौके पर उक्त दोनों विद्यार्थियों को अपनी शुभकामनाएं एवं बधाई देते हुए जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंध निदेशक डॉ. शमीम शर्मा ने कहा जननायक चौ. देवीलाल का सपना था कि सिरसा जैसे शिक्षा में पिछड़े हुए क्षेत्र में विद्यार्थियों को तकनीकी एवं उच्च शिक्षा प्राप्त हो और इसके लिए उन्हें सिरसा से बाहर न जाना पड़े, जिसके लिए हम सदैव प्रयासरत हैं।

आज उनके सपने साकार होते दिख रहे हैं जेसीडी विद्यापीठ के छात्र छात्रा न केवल जिले भर मे बल्कि पूरे हरियाणा के संस्थानों में टॉप करके अपने माता पिता एवं संस्थान का नाम रोशन कर रहे हैं।असल में यह छात्र के अथक मेहनत एवं प्रयासों का ही नतीजा है, जिसने उसे विश्वविद्यालय स्तर पर द्वितीय व चौथा स्थान हासिल करवाया है। उन्होंने कहा कि हमेशा मेहनत करने वाले विद्यार्थी के पीछे उनके शिक्षकों का भी अह्म योगदान होता है, इसलिए विद्यार्थी की इस सफलता के लिए कॉलेज के सभी शिक्षक भी बधाई के पात्र हैं क्योंकि उनके मार्गदर्शन से ही यह संभव हो पाया है।

डॉ शर्मा ने बेटियों के बारे में कहा किएक पढ़ी-लिखी बेटी कर सकती है दो परिवारों को शिक्षित ।लड़कियों के साथ शोषण होने के पीछे मुख्य कारण अशिक्षा भी है। अगर हम पढ़े-लिखे शिक्षित होते हैं तो हमें सही-गलत का ज्ञान होता है। जब बेटियां अपने पैर पर खड़ी होंगी तो कोई भी उन्हें बोझ नहीं समझेगा।

इस अवसर पर मेघा एवं मोहित ने अपने विचार सांझा करते हुए अपनी कामयाबी का श्रेय अपने माता-पिता एवं शिक्षकों को देते हुए कहा कि यह उनके कारण ही संभव हो पाया है क्योंकि हमें हमारे माता-पिता ने इतना अच्छा संस्थान प्रदान करवाया जहां शिक्षा प्राप्त करने के लिए बेहतर वातावरण है, जिसमें हमनें कुछ अपनी ओर से प्रयास किए तथा हमारे शिक्षकों का भी आभार प्रकट करते हैं जिन्होंने समय-समय पर हमारा मार्गदर्शन किया और किसी भी विषय में आने वाली कठिनाईयों को दूर करने में हरसंभव सहयोग प्रदान किया।